Home क्रिकेट मेरी जान। जाने बासुकीनाथ के बारे में जिसने भागलपुर टीम को हेमन में विजेता और उपविजेता बनाया।

जाने बासुकीनाथ के बारे में जिसने भागलपुर टीम को हेमन में विजेता और उपविजेता बनाया।

by Khelbihar.com

Khelbihar.com

भागलपुर।। चलिए जानते है भागलपुर के हेमन ट्रॉफी और बिहार क्रिकेट स्टेट कैम्प में जगह बनाने वाले बसुकीनाथ कि इंटरनल क्रिकेट की कहानी।।

खेलबिहार.कॉम न्यूज़ द्वारा शुरू की गई बिहार क्रिकेट को परिचय कराने के माध्यम से “क्रिकेट मेरी जान” की सीरीज अगर आप अभी तक खेलबिहार न्यूज़ के फेसबुक पेज से नही जुड़े है तो आज ही लाइक कर जुड़े जाए।

बासुकीनाथ बताते है कि इंटर स्कूल क्रिकेट 2003 में खेलते देख मुझे गेम टीचर डॉ आनंद कुमार मिश्रा तथा मुखर्जी उर्फ मामू ने मुझे अच्छे क्रिकेट खेलते देख उन्हीने मुझे बी-डिवीजन क्रिकेट में खेलने का मौका दिया।।जब मैं स्कूल में खेलता था तो मेरे घर से इसको लेकर कोई स्पोर्ट नही रहता था लेकिन बाद में जब मेरा सेलक्शन जिला अंडर-16 टीम के लिए हुआ तो फिर मुझे घर से स्पोर्ट मिलने लगा क्रिकेट के लिए।हम कार्नर क्रिकेट क्लब से भागलपुर ए-डिवीजन खेलना शुरू किए जिसके बाद मुझे जिला क्रिकेट लीग में अच्छा परफॉर्मेंस करने का परिणाम मिला और मुझे अंडर-19 सहित हेमन ट्रॉफी मैच भी खेलने को मौका मिला।

बासुकीनाथ ने बताया कि जामताड़ा से खेलते हुए 2014 में 890 रन बनाने के बाद झारखंड टीम के ओर से मुझे सैयद मुश्ताक अली टी-20 तथा रणजी ट्रॉफी डेज मैच भी खेलने को मौका मिला लेकिन झारखंड में रह कर खेलना थोड़ा कुछ बन नही पा रहा था इसलिए बिहार के लिए फिर से खेलने को सोचा और गत वर्ष बिहार क्रिकेट संघ को भी पूर्ण मान्यता क्रिकेट को बीसीसीआई ने दे दिया तो मैं बिहार से ही खेलना चाहा।।

बिहार क्रिकेट स्टेट टीम में मौका नही मिला पिछले साल आप कैम्प तक ही रह गए क्या लगता है आपको:-

बासुकीनाथ बताते है कि पिछले हेमन ट्रॉफी सीजन में हमने 380 रन किया था और फ़ाइनल मुकाबले में भी 100 किया था लेकिन मेरा परफॉर्मेंस के आधार पर कैम्प तक ही सेलक्शन हो पाया मुझे स्टेट टीम में जगह नही दिया गया शायद बिहार के सेलेक्टर को मुझसे और ज्यादा करने की उमीद होगी लेकिन इस साल भी हेमन में हम उपविजेता टीम रहे और हमने 410 रन किया है देखते है आगे क्या होता है।।पापा ने कहा था कि अगर खेलना है तो सिर्फ खेलो और अच्छा खेलो गली क्रिकेट तक नही रहना है रणजी ट्रॉफी इंडिया ये सब मकसद से क्रिकेट खेलो तो कुछ फायदा है खेलने का।।

क्या उमीद है इस बार भागलपुर से अच्छे खिलाड़ी रणजी में खेलेंगे।
बासुकीनाथ ने बताया की है उमीद तो है जो भी परफॉर्मेंस किये है उसे जरूर मौका दिया जाएगा क्योंकि हमलोग फ़ाइनल भी हारे हेमन ट्रॉफी का तो वह टीम बोर्ड एल्वेन की थी, दो सीजन से कोई ऐसी टीम नही रही जो भागलपुर टीम को बाहर कर सके हमने पिछले सीजन चैंपियन बने थे।।

भागलपुर जिले में बहुत अच्छे अच्छे खिलाड़ी जो स्टेट टीम के लिए डिजर्व करते है हम खुद कप्तान रह चुके है टीम को तो हमे बहुत अच्छे से पता है इन खिलाड़ियो को अगर बिहार स्टेट टीम में जगह मीले तो शारुख जैसे सभी प्रूफ करनेगे अपने आप को।

खिलाड़ियो को नियंत्रण मेहनत करते रहना चाहिए ताकि सलेक्शन न हो तो भी थोड़ा उदासी होती है लेकिन खेल को छोड़ना नही चाहिए।।

Related Articles